BREAKING!
  • कोरोना की इस महामारी में ये मोदी - शिवराज सरकार राहत नहीं आफत लायी है : मितेंद्र दर्शन सिंह
  • एक्ट्रेस रेखा का बंगला हुआ सील
  • MPCCI पदाधिकारी प्रतिनधिमण्डल ने CM शिवराज से की मुलाकात
  • ठाठीपुर चौराहा पर कांग्रेस कमेटी आईटी सेल के जिला अध्यक्ष ने धरना दिया
  • यूपी एसटीएफ ने विकास दुबे के दो साथियों को ग्वालियर से उठाया
  • राज्य मंत्री भदौरिया ने माधवराव सिंधिया की प्रतिमा पर श्रृद्धा-सुमन अर्पित किए
  • स्मार्ट सिटी परियोजना से शहरवासियों को जोड़ा जाए: सांसद शेजवलकर
  • मुख्यमंत्री चौहान आज ग्वालियर व मुरैना प्रवास पर रहेंगे
  • सेवापथ की ओर बढ़ते सिंधिया समर्थकों के काफिले.......!
  • थाना स्तर पर व्यापारिक समितियां बनायेगा कैट : भूपेन्द्र जैन

Sandhyadesh

आज की खबर

22 अक्‍टूबर को बैंकों में हड़ताल

19-Oct-19 167
Sandhyadesh

नई दिल्ली। बीते दिनों वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 10 बैंकों के विलय का ऐलान किया था. इस विलय के खिलाफ दो बैंक यूनियन 22 अक्टूबर को एक दिवसीय हड़ताल पर जाने वाले हैं. इस हड़ताल की वजह से अधिकतर सरकारी बैंकों के कामकाज प्रभावित होने की आशंका है।
इस बीच, बैंक ऑफ बड़ौदा ने अपने ग्राहकों को अलर्ट किया है. बैंक ने कहा है कि वह हड़ताल के दिन अपनी तमाम शाखाओं और कार्यालयों में कामकाज सामान्य करने के लिए सभी आवश्यक कदम उठा रहा है।
इसके साथ ही बैंक ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर हड़ताल होती है तो बैंक के शाखाओंध्कार्यालयों का कामकाज पूरी तरह प्रभावित हो सकता है. हालांकि भारतीय स्टेट बैंक को उम्‍मीद है कि इस हड़ताल का ज्यादा असर नहीं पड़ेगा।
एसबीआई के मुताबिक बैंक के बहुत कम कर्मचारी ऐसे हैं, जो हड़ताल करने वाले यूनियन का हिस्सा हैं, इसलिए इस हड़ताल का बैंक के कामकाज पर बेहद कम असर पड़ेगा।
एसबीआई ने यह भी कहा कि प्रस्तावित हड़ताल से कितने का नुकसान होगा उसका अभी आकलन नहीं किया जा सकता है. इसी तरह बैंक ऑफ महाराष्‍ट्र को भी लगाता है कि यह हड़ताल बैंकिंग स्‍तर पर प्रभावित नहीं करेगा।
बता दें कि अखिल भारतीय बैंक कर्मचारी संघ और भारतीय बैंक कर्मचारी परिसंघ ने 22 अक्‍टूबर को हड़ताल बुलाई है. इसे भारतीय ट्रेड यूनियन कांग्रेस (एटक) ने भी समर्थन दिया है. ये हड़ताल सरकार के 10 बैंकों के विलय के विरोध के लिए बुलाई गई है।

2020-07-12aaj