BREAKING!
  • 64 करोड़ 22 लाख रूपए की लागत से बनने वाले आईएसबीटी से शहर विकास को मिलेगा नया आयाम
  • बजरंगी पवैया की गौभक्ति उबाल पर, कसाइयों के अडडों पर में स्वयं कूच कर दूंगा
  • श्री गजानन माता -शक्तिपीठ में देवी भागवत पुराण की पूजा अर्चना एंव कलश यात्रा के साथ -शुरू हुआ नवरात्रि महोत्सव
  • श्री गजानन माता शक्तिपीठ में कलश यात्रा के साथ शुरू हुआ नवरात्रि महोत्सव का शुभारंभ
  • उपनगर ग्वालियर में भी अग्रसेन जयंती पर प्रभात फेरी निकली
  • दतिया जिले ने विभिन्न क्षेत्रों में कीर्तिमान स्थापित कर संभाग का गौरव बढ़ाया: संभाग आयुक्त सक्सेना
  • बीजों के नमूने अमानक पाए जाने पर चार फर्मों के विक्रय पंजीयन निरस्त
  • सीएम हैल्पलाइन में दर्ज प्रकरणों का निराकरण सर्वोच्च प्राथमिकता से करें : कलेक्टर
  • मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान के तहत मेगा कैम्प का आयोजन 27 सितम्बर को
  • चमकदार तारे की तरह दिखेगा बृहस्पति: डॉ. दीप्ति गौड़

Sandhyadesh

ताका-झांकी

जुबान पर आ ही गई इमरती की पीडा

09-Jan-22 1719
Sandhyadesh

अपनी साहिबा इमरती देवी की पीडा है कि उन्होने पार्टी बदल ली इसलिये हार गई। यानि इमरती कांग्रेस से भाजपा में नहीं आती तो कभी नहीं हारती। उन्हें आज भी भाजपा से ज्यादा कांग्रेस पर ही जीत का भरोसा है।
इमरती की पीडा बीते दिवस डबरा में एक स्वागत समारोह में जुबान पर आ ही गई जब निगम का अध्यक्ष बनने व कैबिनेट मंत्री का दर्जा मिलने पर उनका स्वागत हो रहा था। इमरती जी की पीडा को सुनकर लोग हंस पडे, इमरती भी स्वयं हंस पडी । अब इमरती जी को भूली बिसरी बातें भूलकर अपनी नई पारी खेलने में लगना चाहिये। 2022 लग चुका है और 2023 में चुनाव भी है।
यदि इमरती जी को संदेह है तो भाजपाईयों को लग रही है कि कहीं वह वापस तो नहीं जा रहीं..?

Popular Posts