BREAKING!
  • झाँसी मंडल स्वच्छता पखवाड़ा–2021 का आयोजन
  • गृह मंत्री डॉ. मिश्र का भ्रमण कार्यक्रम
  • सड़कों की पेंच रिपेयरिंग के साथ-साथ स्ट्रीट लाईट संधारण का कार्य भी प्राथमिकता से किया जाए
  • जेपी हॉस्पीटल नोएडा ने एप्पल हॉस्पीटल ग्वालियर के साथ शुरू की किडनी, लीवर ओपीडी
  • राजयोग से मन की शांति संभव-बी.के.भगवान भाई
  • अशोक अर्गल को मिल सकती है राज्यसभा उम्मीदवारी
  • एसपी स्पेशल ब्रांच योगेश्वर शर्मा ने की गणेश जी की आरती
  • श्री खाटू श्याम प्रभु का संकीर्तन आज
  • सकारात्मक विचारों से तनाव मुक्त संभव - बी.के. भगवान भाई
  • कर्तव्य पथ पर अविचल कर्मयोगी हैं मोदी जी - शिवराज सिंह चौहान

Sandhyadesh

ताका-झांकी

सा रे ग म संगीत समूह: मोहम्मद रफी साहब की याद में स्वरांजलि कार्यक्रम किया गया

03-Aug-21 81
Sandhyadesh


फिल्म जगत के बहुत ही मशहूर गायक गायक ए तरन्नुम मोहम्मद रफी साहब की पुण्यतिथि के अवसर पर एक स्वरांजलि कार्यक्रम (Hotel the king's Inn) विनय नगर में आयोजित किया गया, जिसमें ग्वालियर के गायक एवं गायिकाओं ने मोहम्मद रफी साहब के गाए हुए सुप्रसिद्ध गीतों को अपनी मधुर और मनमोहक आवाज में गाकर उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की.
कार्यक्रम की शुरुआत सरस्वती वंदना से हुई जिसे ग्रुप की सीनियर गायिका एवं छोटे बच्चों ने प्रस्तुत किया इसके बाद प्यारा सा भजन लेकर आए ग्रुप एडमिन संतोष चालीसगांव कर जिन्होंने सुख के सब साथी दुख में ना कोई भजन प्रस्तुत किया,  अर्पित संगमनेकर ने खुदा भी आसमां, तृप्ति बहरे ने तेरी आंखों के सिवा, श्वेता अग्निहोत्री ने यह समा समा है यह प्यार का, अर्शिका खरे ने आने से उसके आए बहार, सोनू समद ने कितना प्यारा वादा, मोनिका जैन ने जिंदगी भर नहीं भूलेंगे वो बरसात की रात, लावण्या बत्रा एवं हरीश बत्रा ने प्यारा सा युगल गीत रिमझिम के गीत सावन गाए, बृजमोहन श्रीवास्तव ने छलकाए जाम, मधुकर ने परदेसियों से ना अखियां मिलाना, दीपक आर्य ने ओ मेरे सोना रे सोना रे, रामाकांत गोयल ने गुलाबी आंखें जो तेरी देखी, केके सक्सेना एवं रंजना सक्सेना जी ने युगल गीत प्रस्तुत किया बेखुदी में सनम, नितेश ने तुम बिन जाऊं कहां, मयंक चतुर्वेदी ने यह रेशमी जुल्फें, रामचंद्र शहाणे ने तेरे लिए सपने, आरती ने इस भरी दुनिया में आखिर दिल, योगेंद्र ने एक हसीन शाम को, लतिका एवं राजेंद्र जी ने  युगल गीत प्रस्तुत किया चुरा लिया है तुमने जो दिल को, भास्कर पिंगले ने चाहूंगा मैं तुझे शाम सवेरे, आनंद साठे ने छू लेने दो नाजुक होठों को, मनीष खरे  ने तू इस तरह से मेरी जिंदगी में शामिल है, अर्चना साठे एवं प्रफुल्ल ने युगल गीत प्रस्तुत किया मांग के साथ तुम्हारा, प्रेक्षा नायक ने हम और तुम और यह समा, मुकुल मित्तल ने हुई शाम उनका ख्याल आ गया, नवीन सक्सेना ने यह दुनिया यह महफिल मेरे काम की नहीं, अवध गुप्ता ने चेहरे पर गिरी जुल्फें हटा दूं, प्रीति अस्थाना जी ने इशारों इशारों में दिल लेने वाले, संजय पटवर्धन ने आसमान से आया फरिश्ता मोहम्मद रफी साहब के मधुर और मनमोहक और सुप्रसिद्ध  गीतों की प्रस्तुति देकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की.
कार्यक्रम संयोजक की भूमिका प्रफुल्ल वैशंपायन, बृज मोहन श्रीवास्तव एवं हरीश बत्रा जी के द्वारा निभाई गई कार्यक्रम का संचालन अर्चना साठे जी द्वारा किया गया एवं सभी गायक एवं गायिकाओं का प्रोग्राम के अंत में आभार व्यक्त ग्रुप एडमिन नवीन सक्सेना एवं संतोष चालीसगांव कर जी द्वारा किया गया.

Popular Posts