BREAKING!
  • झाँसी मंडल स्वच्छता पखवाड़ा–2021 का आयोजन
  • गृह मंत्री डॉ. मिश्र का भ्रमण कार्यक्रम
  • सड़कों की पेंच रिपेयरिंग के साथ-साथ स्ट्रीट लाईट संधारण का कार्य भी प्राथमिकता से किया जाए
  • जेपी हॉस्पीटल नोएडा ने एप्पल हॉस्पीटल ग्वालियर के साथ शुरू की किडनी, लीवर ओपीडी
  • राजयोग से मन की शांति संभव-बी.के.भगवान भाई
  • अशोक अर्गल को मिल सकती है राज्यसभा उम्मीदवारी
  • एसपी स्पेशल ब्रांच योगेश्वर शर्मा ने की गणेश जी की आरती
  • श्री खाटू श्याम प्रभु का संकीर्तन आज
  • सकारात्मक विचारों से तनाव मुक्त संभव - बी.के. भगवान भाई
  • कर्तव्य पथ पर अविचल कर्मयोगी हैं मोदी जी - शिवराज सिंह चौहान

Sandhyadesh

ताका-झांकी

एल.एन.आई.पी.ई. में मनाया जायेगा आजादी का सात दिवसीय अमृत महोत्सव

02-Aug-21 97
Sandhyadesh

    एनएनआईपीई में आज से सात दिवसीय आजादी के अमृत महोत्सव का आरम्भ संस्थान के रविनद्रनाथ टैगोर ऑडिटोरियम में मुख्य अतिथि कुलपति प्रो. एस. मुखर्जी द्वारा माँ सरस्वती की प्रतिमा पर द्वीप प्रज्वलित कर किया गया। Sandhyadesh
इसके उपरांत कार्यक्रम में प्रो. एस. मुखर्जी द्वारा समस्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों को सम्बोधित करते हुये कहा कि यह आजादी का 75वां साल है और हमें हमेशा यह याद रखना चाहिए कि किन कठिन परिस्थितियों में देश के क्रांतिकारियों ने अपने बलिदान देकर एवं अंग्रेज शासन के लाठी, डण्डे और गोलियां खाकर किस कठिनाई से इस आजादी को प्राप्त किया। प्रत्येक व्यक्ति को हर दिन कुछ न कुछ अपने देश एवं अपने संस्थान आदि के लिये कुछ करते रहना चाहिए। जो कि अपने देश को आगे ले जाये एवं अपने प्रति गर्व महसूस करेंगे। आज हम गांधीजी, चन्द्रशेखर आजाद, सुभाष चन्द्र बोस, भगत सिंह, रामप्रसाद बिस्मिल, अस्फाक उल्लाह खान जैसे कई अनेकों ने देश के लिये कुर्बानियां देकर इस देश को आजाद कराया। अब आगे तरक्की के रास्ते की जिम्मेदारी हमारी एवं आपकी बनती है।Sandhyadesh
    संस्थान के कुलसचिव प्रो. ए.एस. साजवान ने की कहा कि इस संस्थान का नाम क्रांतिकारी झांसी की रानी लक्ष्मीबाई के नाम पर रखा गया है। जिन्होनें 1857 में देश को आजादी दिलाने के लिये अंग्रेजों के विरूद्ध क्रांति लाई थी। जिसको अमलीजामा पहनाने में देश ने कई कुर्बानियां दी जिसके 100 साल बाद देश आजाद हुआ। तदेपरांत संस्थान के छात्र-छात्राओं द्वारा 2 समूह राश्ट्रगान प्रस्तुत किये। इस सात दिवसीय कार्यक्रम में वृक्षारोपण, कविता, तात्कालिक भाषण, संस्थान में सफाई अभियान एवं बाल अपराध केन्द्र पर जाकर सफाई अभियान कर उनको उचित मार्ग पर ले जाने हेतु उदबोधन आदि कार्यक्रम किये जावेंगे।

Popular Posts