BREAKING!
  • झाँसी मंडल स्वच्छता पखवाड़ा–2021 का आयोजन
  • गृह मंत्री डॉ. मिश्र का भ्रमण कार्यक्रम
  • सड़कों की पेंच रिपेयरिंग के साथ-साथ स्ट्रीट लाईट संधारण का कार्य भी प्राथमिकता से किया जाए
  • जेपी हॉस्पीटल नोएडा ने एप्पल हॉस्पीटल ग्वालियर के साथ शुरू की किडनी, लीवर ओपीडी
  • राजयोग से मन की शांति संभव-बी.के.भगवान भाई
  • अशोक अर्गल को मिल सकती है राज्यसभा उम्मीदवारी
  • एसपी स्पेशल ब्रांच योगेश्वर शर्मा ने की गणेश जी की आरती
  • श्री खाटू श्याम प्रभु का संकीर्तन आज
  • सकारात्मक विचारों से तनाव मुक्त संभव - बी.के. भगवान भाई
  • कर्तव्य पथ पर अविचल कर्मयोगी हैं मोदी जी - शिवराज सिंह चौहान

Sandhyadesh

ताका-झांकी

पुराने विक्रयकर भवन की जगह नया निर्माण कर सकता है प्राधिकरण

30-Jul-21 186
Sandhyadesh

ग्वालियर। ग्वालियर विकास प्राधिकरण जल्द ही सिटी सेंटर व्यावसायिक योजना में पुराने विक्रयकर  भवन को हटाकर पुन: निर्माण कर सकता है। इसके लिये प्राधिकरण अपना होमवर्क कर रहा है और वहां स्थापित व्यावसाइयों से सहमति भी मांगने की तैयारी कर रहा है। हालांकि इस संदर्भ में अभी तक प्राधिकरण ने कोई अधिकारिक सूचना जारी नहीं की है, लेकिन प्राधिकरण के सूत्र बताते हैं कि नये निर्माण के लिये प्राधिकरण जल्द ही शुरूआत कर सकता है।
ज्ञातव्य है कि ग्वालियर विकास प्राधिकरण ने विक्रयकर भवन सिटी सेंटर के अत्यंत जर्जर होने के कारण २०१९ मई में इसके लिये तैयारी शुरू की थी और सिटी सेंटर विक्रयकर भवन के हितग्राहियों व दुकानदारों को सूचना पत्र भी लिखे थे। इन पत्रों में कहा गया था कि विक्रयकर भवन जर्जर होने से विक्रयकर  का आफिस नये स्थान से संचालित हो रहा है। इसलिये प्राधिकरण इस भवन के स्थान पर नये ढंग से अति आधुनिक सर्वसुविधायुक्त भवन बनाने की मंशा रखता है चूंकि पुराने विक्रयकर भवन में भूतल पर दुकानें हैं अत: यह सभी दुकानें भी नये सिरे से बनाई जायेंगी।
चूंकि प्राधिकरण की इस नवीन योजना को क्रियान्वयन करने से पूर्व सहमति व सुझाव दुकानदारों से आवश्यक रूप से मांगे गये थे। इस नवीन योजना में दुकानदारों का उनके क्षेत्रफल के बराबर का क्षेत्र उसी स्थान पर उपलब्ध कराने या अन्य स्थान देने की योजना है। बताया जाता है कि प्राधिकरण इसमें फ्लैटों को भी नये सिरे से बना सकता है। इसके लिये प्राधिकरण अपनी ओर से तो तैयार है लेकिन दुकानदारों व फ्लैट मालिकों ने अभी सहमति नहीं दी है। इसीलिये प्राधिकरण की यह योजना पूर्व से ही २ वर्ष लेट हो चुकी है।
इधर दुकानदारों का कहना है कि नये माडल से सिटी सेंटर योजना में दुकानें बनने से उनकी दुकानों की स्थिति भी ठीक हो जायेगी अभी अधिकांश दुकानें अंदर की ओर हैं, जिससे ग्राहक वहां आ ही नहीं पाता है, क्योंकि अंदर की तरफ आने के लिये सही एप्रोच रोड भी नहीं बनी है।

Popular Posts