BREAKING!
  • उपचुनाव के बाद कुछ चेहरे बदले जा सकते हैं मंत्रीमंडल में ....?
  • मध्यप्रदेश का नाम रोशन करने वाले खिलाड़ियों को प्रदेश में ही नौकरी दिलाने के प्रयास होंगे – यशोधरा राजे सिंधिया
  • हॉकी का वैभव फिर से कायम करने के लिए सरकार प्रयासरत – मंत्री यशोधरा राजे
  • भारत स्काउट गाइड वर्ष भर सेवा कार्यक्रम करेगा
  • MP में नहीं होगी 'आश्रम' की शूटिंग, पहले साधू संत देखेंगे स्क्रिप्ट- प्रज्ञा ठाकुर
  • पुस्तक से अच्छा कोई मित्र नहीं- गृह मंत्री डॉ मिश्र
  • राजमाता स्व. विजयाराजे सिंधिया को 102वीं जयंती पर श्रद्धा भाव के साथ याद किया
  • मुंबई की डॉ सरिका श्रीवास्तव कर रही हैं पीडि़तों की सहायता
  • गृह मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र पुस्तक के विमोचन समारोह में आज शामिल होंगे
  • ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने शिंदे की छावनी और गेंडेवाली सड़क का किया निरीक्षण

माखीजानी व देवेन्द्र को बिना कार्यकारिणी के भा रही जिलाध्यक्षी

15-May-21 798
Sandhyadesh

अंचल में दोनों दिग्गज दल बिना कार्यकारिणी के चल रहे है। लगता है भाजपा - कांग्रेस को कार्यकारिणी की जरूरत भी नहीं, क्योंकि जिलाध्यक्षद्वय संगठन को खूब अच्छे से चला रहे है। दोनों ही एकला चलो की नीति पर है।
हम आपको बता दें कि कांग्रेस जिलाध्यक्ष डा. देवेन्द्र शर्मा को आम चुनावों से पहले जिला कांग्रेस की बागडोर सौंपी गई थी। लगभग दो साल से ज्यादा का समय उन्हें कुर्सी पर बैठे हुये हो गया है। वहीं जिला भाजपा प्रमुख कमल माखीजानी को भी एक वर्ष हो गया है। परंतु मजे की बात यह है कि दोनों ही जिला प्रमुख अपनी कार्यकारिणी का गठन अब तक नहीं कर पाये है। दरबारीलाल के सूत्रों की माने तो उन्हें एकला राज रास आ रहा है और संगठन भी चल रहा है। आवाज उठाने वाला भी कोई नहीं, चाहे जैसा जी करें वैसा प्रमुख करें। लेकिन जो भी हो महामारी में दोनों ही अपने-अपने संगठन को अकेले ही खींच रहे है, वहीं कार्यकारिणी में आने के इच्छुक नेता अब अपने जिलाध्यक्षों की मनमानी पर कभी- कभी ग़ुस्सा भी उतारने लगे हैं ।

Popular Posts