BREAKING!
  • सा रे ग म संगीत समूह: मोहम्मद रफी साहब की याद में स्वरांजलि कार्यक्रम किया गया
  • अखिल भारतीय माहौर ग्वाररे वैश्य महासभा की कार्यकारिणी का दायित्व ग्रहण समारोह संपन्न
  • JCI ग्वालियर का ट्रेनिंग प्रोग्राम एक और एक ग्यारह का आयोजन किया गया
  • कर्मचारी आवास कॉलोनी में रोपे पौधे
  • सिफारिशी पत्रों की जांच ने रोकी लिस्ट
  • एल.एन.आई.पी.ई. में मनाया जायेगा आजादी का सात दिवसीय अमृत महोत्सव
  • मध्यप्रदेश में अब घर बैठे बनेंगे ऑनलाइन लर्निंग ड्रायविंग लायसेंस
  • गौमाता की आवाज हमेशा उठाते रहेंगे, हमले पर चुप नहीं बैठेगे : मिर्ची बाबा
  • लोकायुक्त ट्रेप कार्रवाई : रिश्वत लेते सी एम एच ओ का लिपिक दबोचा
  • बेटा-बेटी की तरह करें पौधों की देखभाल - ऊर्जा मंत्री तोमर

Sandhyadesh

ताका-झांकी

माखीजानी व देवेन्द्र को बिना कार्यकारिणी के भा रही जिलाध्यक्षी

15-May-21 647
Sandhyadesh

अंचल में दोनों दिग्गज दल बिना कार्यकारिणी के चल रहे है। लगता है भाजपा - कांग्रेस को कार्यकारिणी की जरूरत भी नहीं, क्योंकि जिलाध्यक्षद्वय संगठन को खूब अच्छे से चला रहे है। दोनों ही एकला चलो की नीति पर है।
हम आपको बता दें कि कांग्रेस जिलाध्यक्ष डा. देवेन्द्र शर्मा को आम चुनावों से पहले जिला कांग्रेस की बागडोर सौंपी गई थी। लगभग दो साल से ज्यादा का समय उन्हें कुर्सी पर बैठे हुये हो गया है। वहीं जिला भाजपा प्रमुख कमल माखीजानी को भी एक वर्ष हो गया है। परंतु मजे की बात यह है कि दोनों ही जिला प्रमुख अपनी कार्यकारिणी का गठन अब तक नहीं कर पाये है। दरबारीलाल के सूत्रों की माने तो उन्हें एकला राज रास आ रहा है और संगठन भी चल रहा है। आवाज उठाने वाला भी कोई नहीं, चाहे जैसा जी करें वैसा प्रमुख करें। लेकिन जो भी हो महामारी में दोनों ही अपने-अपने संगठन को अकेले ही खींच रहे है, वहीं कार्यकारिणी में आने के इच्छुक नेता अब अपने जिलाध्यक्षों की मनमानी पर कभी- कभी ग़ुस्सा भी उतारने लगे हैं ।

Popular Posts