BREAKING!
  • सीमा समाधिया लश्कर पूर्व की विधानसभा की प्रभारी बनी
  • कर्मचारी राज्य बीमा चिकित्सालय की मिसाल ,कोरोना सेंटर के साथ , अन्य बीमारियों का उपचार भी
  • कांग्रेस प्रवक्ता आनंद शर्मा कोरोना से उभरे, अब होम आइसोलेशन में रहेंगे
  • कोरोना बताकर मार दिया स्वांस रोग से पीडित इंजीनियर: पुनियानी
  • कमिश्रर - प्रशासक में क्या बन नहीं रही
  • नेताजी क्या करेंगे.....
  • भूल सुधारी सांसद जी ने
  • काउंसलिंग बाल सरंक्षण औऱ पुनर्वास का निर्णायक तत्व है: शिवानी सरकार
  • निधि शर्मा करैरा शिवपुरी विधानसभा की प्रभारी बनी
  • मप्र डिप्लोमा इंजीनियर्स एसोसियेशन कर्मचारी विरोधी नीतियों को लेकर चार सितंबर को ज्ञापन सौंपेंगा

Sandhyadesh

आज की खबर

विभाग बांटने में बेबस हुये शिवराज दिल्ली दरबार मे नतमस्तक

05-Jul-20 869
Sandhyadesh

भोपाल । सिंधिया समर्थकों युक्त राज्य का शिवराज मंत्रीमंडल अब विभागों के पेंच को लेकर संशय में है। विभाग के लिये अब दिल्ली दरबार फाइनल निर्णय होगा। अब मंत्री बनने के बाद पूर्व कांग्रेसी लेकिन अब भाजपाई भी दमदार विभागों के लिये अड़ गये हैं। जिससे भाजपा के कोटे से बने प्रमुख वरिष्ठ मंत्रियों को अपने मन पसंद विभाग के लाले पड गये हैं। स्वयं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह भी उलझन में पड गये हैं। 
लगातार दमदारी से एक तरफा ३ बार राज्य का मंत्रीमंडल संम्हालने वाले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के लिये इस बार पूर्व कांग्रेसी गले की फांस बनते जा रहे हैं। पहले दबाब में निर्धारित कोटे से ज्यादा मंत्री बनाने पडे ,अब विभाग भी उन्हें महत्वपूर्ण विभाग देने का दबाब बढता ही जा रहा है। 
इस दबाब के कारण मुख्यमंत्री शिवराज सिंह स्वयं निर्णय नहीं ले पा रहे हैं। इसके लिये अब उन्हें दिल्ली दरबार की शरण लेनी पडी है। जबकि यह बात तय है कि मंत्री बनाना व विभाग देना मुख्यमंत्री का सबसे बडा अधिकार है, इस अधिकार का उन्हें स्वयं अपने विवेक से निर्णय करना चाहिये। 

2020-08-11aaj