BREAKING!
  • 64 करोड़ 22 लाख रूपए की लागत से बनने वाले आईएसबीटी से शहर विकास को मिलेगा नया आयाम
  • बजरंगी पवैया की गौभक्ति उबाल पर, कसाइयों के अडडों पर में स्वयं कूच कर दूंगा
  • श्री गजानन माता -शक्तिपीठ में देवी भागवत पुराण की पूजा अर्चना एंव कलश यात्रा के साथ -शुरू हुआ नवरात्रि महोत्सव
  • श्री गजानन माता शक्तिपीठ में कलश यात्रा के साथ शुरू हुआ नवरात्रि महोत्सव का शुभारंभ
  • उपनगर ग्वालियर में भी अग्रसेन जयंती पर प्रभात फेरी निकली
  • दतिया जिले ने विभिन्न क्षेत्रों में कीर्तिमान स्थापित कर संभाग का गौरव बढ़ाया: संभाग आयुक्त सक्सेना
  • बीजों के नमूने अमानक पाए जाने पर चार फर्मों के विक्रय पंजीयन निरस्त
  • सीएम हैल्पलाइन में दर्ज प्रकरणों का निराकरण सर्वोच्च प्राथमिकता से करें : कलेक्टर
  • मुख्यमंत्री जन सेवा अभियान के तहत मेगा कैम्प का आयोजन 27 सितम्बर को
  • चमकदार तारे की तरह दिखेगा बृहस्पति: डॉ. दीप्ति गौड़

Sandhyadesh

ताका-झांकी

लॉक डाउन में महाराज का नया रूप,समर्थकों में जोश भर गया

04-Jun-20 5807
Sandhyadesh

विनय अग्रवाल
ग्वालियर। कोविड-19 के कहर में पूर्व केन्द्रीय मंत्री और भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया का नया रूप देखने को मिला। महाराज यानि सिंधिया जी ने इस दौरान अपने समर्थकों व खास लोगों को लगातार सेवा अभियान चलाने के लिये उत्साहित किया, वहीं सेवा अभियान से जुडे कार्यकर्ताओं से भी मोबाइल पर सीधा संवाद किया। 
उनका फोन जब कार्यकर्ताओं पर आया तो कार्यकर्ताओं को सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि महाराज का फोन है। महाराज ने कार्यकर्ताओं से कहा कि आप हैरान न हों मैं ज्योतिरादित्य बोल रहा हूं, आप कैसे हैं परिवार के लोग कैसे हैं के साथ सबकी कुशलक्षेम पूछी । महाराज के फोन से कार्यकर्ताओं का जोश चौगुना हो गया। वह शहर भर में अपने समर्थकों को बताते हुये घूमे भी कि महाराज ने उनसे बात की। 
वैसे सिंधिया जी लॉक डाउन अवधि में ग्वालियर तो नहीं आये, लेकिन उन्होंने कार्यकर्ताओं से क्षेत्र विशेष का भी नाम लेकर गरीबों में खाद्यान्न सामग्री व खाना बांटने के लिये नियमित जुट जाने का आव्हान किया। महाराज के फोन से अति उत्साहित कार्यकर्ताओं ने इसके बाद न तो दिन देखा और न रात, बस जुट गये सेवा कार्य में। 
एक कार्यकर्ता सत्येन्द्र शर्मा ने तो लगातार ७१ दिन से भूखों को और प्रवासी लोगों को भोजन बांटने की मुहिम ही चला रखी है। स्वयं महाराज ने उनसे तो बात की , बल्कि उनके साथ सेवा कार्य में लगे अन्य साथियों से बात कर उनकी भी हौसला अफजाई की। 
वैसे महाराज का यह रूप निराला ही है, इससे भाजपा के उन बडे नेताओं को भी कुछ सीख लेना चाहिये जो अपने ही खास कार्यकर्ताओं सहित अंचल के लोगों से दूरियां बनाये हुये हैं। 

Popular Posts