BREAKING!
  • मुन्ना पर दादा समर्थक मेहरबान
  • उपनगर में महाराजा अग्रसेन चल समारोह निकला
  • कमलनाथ क्षमा मांग लेते तो मामले का पटाक्षेप हो जाता : अजय विश्रोई
  • धीरज ढींगरा मध्यप्रदेश युवा कांग्रेस के महासचिव नियुक्त
  • रोटरी क्लब ग्वालियर के ग्लोबल ग्रान्ट प्रोजेक्ट का लोकार्पण
  • जिले के तीनों विधानसभा क्षेत्रों से 35 प्रत्याशी चुनाव मैदान में, कुल 4 प्रत्याशियों ने नाम वापस लिए
  • सिंधिया अपना भाषण रोककर सुनते थे अजान, भाषण दे रहे थे जब अन्नदाता की गई जान: डॉ. देवेन्द्र शर्मा
  • राहुल से कमलनाथ तक कांग्रेस की संस्कृति में बसा है महिला का अपमान- सांसद रीति पाठक
  • इमरती पर टिप्पणी: सोनिया-प्रियंका माफी मांगे, प्रदेश अध्यक्ष शर्मा के नेतृत्व में विशाल मौन धरना
  • ईद मिलादुन्नबी का चांद दिखा, 30 अक्टूबर को मनाई जायेगी

Sandhyadesh

ताका-झांकी

लॉक डाउन में महाराज का नया रूप,समर्थकों में जोश भर गया

04-Jun-20 3999
Sandhyadesh

विनय अग्रवाल
ग्वालियर। कोविड-19 के कहर में पूर्व केन्द्रीय मंत्री और भाजपा नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया का नया रूप देखने को मिला। महाराज यानि सिंधिया जी ने इस दौरान अपने समर्थकों व खास लोगों को लगातार सेवा अभियान चलाने के लिये उत्साहित किया, वहीं सेवा अभियान से जुडे कार्यकर्ताओं से भी मोबाइल पर सीधा संवाद किया। 
उनका फोन जब कार्यकर्ताओं पर आया तो कार्यकर्ताओं को सहसा विश्वास ही नहीं हुआ कि महाराज का फोन है। महाराज ने कार्यकर्ताओं से कहा कि आप हैरान न हों मैं ज्योतिरादित्य बोल रहा हूं, आप कैसे हैं परिवार के लोग कैसे हैं के साथ सबकी कुशलक्षेम पूछी । महाराज के फोन से कार्यकर्ताओं का जोश चौगुना हो गया। वह शहर भर में अपने समर्थकों को बताते हुये घूमे भी कि महाराज ने उनसे बात की। 
वैसे सिंधिया जी लॉक डाउन अवधि में ग्वालियर तो नहीं आये, लेकिन उन्होंने कार्यकर्ताओं से क्षेत्र विशेष का भी नाम लेकर गरीबों में खाद्यान्न सामग्री व खाना बांटने के लिये नियमित जुट जाने का आव्हान किया। महाराज के फोन से अति उत्साहित कार्यकर्ताओं ने इसके बाद न तो दिन देखा और न रात, बस जुट गये सेवा कार्य में। 
एक कार्यकर्ता सत्येन्द्र शर्मा ने तो लगातार ७१ दिन से भूखों को और प्रवासी लोगों को भोजन बांटने की मुहिम ही चला रखी है। स्वयं महाराज ने उनसे तो बात की , बल्कि उनके साथ सेवा कार्य में लगे अन्य साथियों से बात कर उनकी भी हौसला अफजाई की। 
वैसे महाराज का यह रूप निराला ही है, इससे भाजपा के उन बडे नेताओं को भी कुछ सीख लेना चाहिये जो अपने ही खास कार्यकर्ताओं सहित अंचल के लोगों से दूरियां बनाये हुये हैं। 

Popular Posts