बेमौसम की बारिश और आंशिक ओलावृष्टि से हुआ गेंहू की फसल को भारी नुकसान

- मौसम के बदले मिजाज को लेकर किसान चिंता में डूबे
ग्वालियर। शनिवार की दोपहर अचानक आए मौसम में बदलाव के बाद  हवाओं के साथ कहीं झमाझम तो कहीं रिमझिम बारिश और आंशिक चने जैसे आकार के ओले गिर गए। जिसके चलते किसानों की खेतों में पककर खड़ी गेहूं की फसल को भारी नुकसान पहुंचा है। इस समय किसान गेहूं की फसल को काटकर घर लाने या अनाज मंडी में विक्रय के लिए ले जाने की तैयारी कर रहे थे, ऐसे में अचानक बदले मौसम ने उनकी कमर तोड़कर रख दी है। बताया गया है कि भितरवार तहसील क्षेत्र के एक दर्जन से अधिक गांव में बारिश के साथ-साथ ओलावृष्टि भी हो गई है, जिससे भारी नुकसान होने की खबर है।
जानकारी के मुताबिक शनिवार की दोपहर लगभग 2 बजे से 2.30 बजे के बीच अचानक मौसम में बड़ा बदलाव देखने को मिला। जहां मध्यम गति की हवाओं के साथ कहीं रिमझिम तो कहीं झमाझम बारिश शुरू हो गई तो कई गांव में बेर और चने के आकार के ओले गिरे। जिससे किसानों की खेतों में पक कर खड़ी हुई गेहूं की फसल बह गई। दाने खेत में झड़ गए हैं। वहीं देरी से लगाई गई फसल जो अभी पकी नहीं थी, वह भी तेज गति की बारिश और वेर और चने के आकार के गिरे ओलों से खेतों में गिर गई है। अचानक हुई बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि से जहां एक और गेहूं की फसल को भारी नुकसान पहुंचा है तो वही फसल की गुणवत्ता और उसकी चमक पर भी विपरीत असर पडने की वजह से गेहूं उत्पादक किसान अब चिंता में डूब गए हैं। जहां पिछले दो दिन से दिन में तेज धूप और रात में भी लोगों को गर्मी का एहसास होना शुरू ही हुआ था। तभी शनिवार की सुबह से ही आसमान में हल्के फुल्के बादल नजर आने लगे थे जिससे जून और जुलाई के महीने जैसी उमस का असर दिखाई दे रहा था।   
इस दौरान लगभग 20 से 25 प्रतिशत किसानों के द्वारा मौसम के मिजाज को भांपते हुए फसल को कटवा कर घरों पर सुरक्षित भेज दिया लेकिन शेष रहे किसान कटाई के कार्य में लगे हुए थे तभी अचानक शनिवार की दोपहर कुदरत का कहर बनकर ओलावृष्टि ने अन्नदाता की दिन रात मेहनत  पर पानी फेर दिया। जिससे उक्त क्षेत्र के किसान हताश और निराश हो गए हैं। वही ग्रामीण सूत्रों के द्वारा बताया जाता है कि भितरवार तहसील क्षेत्र के रही, मस्तूरा, श्यामपुर आदि ग्रामों में झमाझम बारिश के बीच चने और बेर के आकार के 15 से 20 सेकंड तक ओले गिरे जिससे कई किसानों की फसल को भारी नुकसान हुआ है। वहीं गधोटा, शिल्हा, पलायछा, देवरीकला, लोड़ी, धोवट, खेड़ा भितरवार, बेलगडा, जखबार, आदमपुर, नजरपुर आदि अन्य कई गावों में 30 से 40 मिनट तक हुई झमाझम बारिश से गेहूं की फसल को भारी नुकसान बताया जा रहा है। साथ ही बताया जा रहा है कि कई गांव में रिमझिम बारिश से फसल कटाई का कार्य लगभग 5 से 6 दिन के लिए नमी आ जाने के कारण प्रभावित हो गया है।
ओलावृष्टि की जानकारी मिलने पर राजस्व व कृषि विभाग का अमला हुआ सक्रिय 
जैसे ही शनिवार की दोपहर अचानक बिगड़े मौसम के साथ कहीं झमाझम तो कहीं रिमझिम बारिश और हुई आंशिक ओलावृष्टि को देखते हुए कलेक्टर से मिले निर्देशों के आधार पर भितरवार एसडीएम देवकीनंदन सिंह के मार्गदर्शन में तहसीलदार राकेश कुमार वर्मा और राजस्व निरीक्षक सुरेश चंद्र नागर सहित अन्य राजस्व अमला सक्रिय हो गया है। ग्राम कोटवारों के माध्यम से कहां-कहां ओलावृष्टि और कहां-कहां जोरदार बारिश से नुकसान हुआ है वह सबकी जानकारी जुटाने में जुट गए हैं।

posted by Admin
83

Advertisement

sandhyadesh
sandhyadesh
Get In Touch

Padav, Dafrin Sarai, Gwalior (M.P.)

00000-00000

sandhyadesh@gmail.com

Follow Us

© Sandhyadesh. All Rights Reserved. Developed by Ankit Singhal

!-- Google Analytics snippet added by Site Kit -->